News Nation Logo
Banner
Banner

जीएसटी परिषद ने कुछ दरों में बदलाव, पेट्रोलियम अभी भी जीएसटी से बाहर (राउंडअप)

जीएसटी परिषद ने कुछ दरों में बदलाव, पेट्रोलियम अभी भी जीएसटी से बाहर (राउंडअप)

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 18 Sep 2021, 12:30:02 AM
GST Bhavan

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

लखनऊ: जीएसटी परिषद ने शुक्रवार को पेट्रोलियम उत्पादों को अपने दायरे में लाने पर कोई फैसला नहीं लेते हुए दवाओं पर शुल्क की रियायती दर को 31 दिसंबर, 2021 तक बढ़ाकर कोविड से संबंधित वस्तुओं पर राहत देने का फैसला किया है।

उन्होंने जोमैटो और स्विगी जैसे फूड डिलिवरी ऐप को रेस्तरां के रूप में मानने का निर्णय लेते हुए फुटवियर और कपड़ा क्षेत्रों में उल्टे शुल्क ढांचे को ठीक करने का भी निर्णय लिया, जिससे उनके द्वारा की गई आपूर्ति पर 5 प्रतिशत जीएसटी का भुगतान करने के लिए जिम्मेदार हो गया है। हालांकि, नई प्रणाली से भोजन महंगा नहीं होगा क्योंकि इसमें कोई नया कर नहीं जोड़ा गया है।

कोविड महामारी के प्रकोप के बाद पहली बार में लखनऊ में हुई परिषद ने केरल उच्च न्यायालय के निर्देश पर पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के तहत शामिल करने पर चर्चा की, लेकिन फैसला किया कि यह बदलाव करने का सही समय नहीं है।

बैठक के बाद मीडिया को जानकारी देते हुए उन्होंने कहा, हमने कुछ लोगों के अनुकूल फैसले लिए हैं।

सीतारमण ने यह भी कहा कि परिषद ने केवल व्यक्तिगत उपयोग के लिए आयातित मस्कुलर एट्रोफी के इलाज के लिए दवाओं पर कर छूट दी है और कैंसर के इलाज के लिए दवाओं पर शुल्क 12 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया है।

इसके अलावा, परिषद ने 30 सितंबर, 2022 तक पट्टे पर दिए गए विमानों के आयात और जहाज या हवाई द्वारा माल के निर्यात पर जीएसटी से छूट दी गई है।

हालांकि, इन्होंने रेलवे के पुजरें, लोकोमोटिव और अन्य सामानों पर जीएसटी को 12 प्रतिशत से बढ़ाकर 18 कर दिया है।

इसने राज्यों के लिए जीएसटी के कारण अपने राजस्व की कमी को पूरा करने के लिए सहमत मुआवजे के फार्मूले पर भी चर्चा की और निर्णय लिया कि केंद्र वित्त वर्ष 2021 और वित्त वर्ष 2022 में कमी को पूरा करने के लिए लिए गए ऋणों का भुगतान करने के लिए जुलाई 2022 से मार्च 2026 तक की निर्धारित पांच साल की अवधि से परे मुआवजा उपकर लगाना जारी रखेगा।

कोविड राहत दवाओं के संबंध में, 30 सितंबर तक वैध रियायती जीएसटी दर को एम्फोटेरिसिन बी (काले कवक के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला), रेमडेसिविर, टोसीलिजुमैब और हेपरिन जैसे एंटी-कोगुलेंट के लिए 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया गया था।

इसके अलावा, कोविड -19 उपचार दवाओं के मामले में 31 दिसंबर तक 5 प्रतिशत की घटी हुई जीएसटी दर भी उपलब्ध होगी और इटोलिजुमाब, पॉसाकोनाजोल, इन्फ्लिक्सिमैब, फेविपिरवीर, कासिरिविमैब और इम्देवीमैब, 2-डीऑक्सी-डी-ग्लूकोज, बामलानिविमैब, और एतेसेविमाब शामिल हैं।

परिषद ने लौह, तांबा, एल्यूमीनियम, जस्ता और कुछ अन्य धातुओं जैसे अयस्कों और कंसंट्रेटरों पर शुल्क को 5 से 18 प्रतिशत तक बढ़ाते हुए तेल कंपनियों को जैव ईंधन की आपूर्ति पर दर को 12 से घटाकर 5 प्रतिशत करने का भी निर्णय लिया है।

इसके अलावा, ईंट भट्टों को 1 अप्रैल, 2022 से 20 लाख रुपये की सीमा के साथ विशेष संरचना योजना के तहत लाया जाएगा। योजना के तहत आईटीसी के बिना ईंटों पर 6 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगेगा और आईटीसी के साथ 12 प्रतिशत अन्यथा ईंटों पर लागू होगा।

फुटवियर और टेक्सटाइल क्षेत्र में उल्टे शुल्क ढांचे को ठीक करने के लिए, जैसा कि पहले जीएसटी परिषद की बैठक में चर्चा की गई थी और उचित समय के लिए स्थगित कर दिया गया था, परिषद ने फैसला किया कि इसे 1 जनवरी, 2022 से लागू किया जाएगा।

मुआवजे के परि²श्य के मुद्दे पर परिषद को एक प्रस्तुति दी गई थी जिसमें यह बताया गया था कि जून 2022 से अप्रैल 2026 तक की अवधि में मुआवजा उपकर से राजस्व संग्रह 2020-21 और 2021-22 में अंतर को पाटने के लिए किए गए उधार और ऋण चुकौती के भुगतान में समाप्त हो जाएगा। इस संदर्भ में, विभिन्न समितियों/मंचों द्वारा अनुशंसित विभिन्न विकल्प प्रस्तुत किए गए, और परिषद ने इस मुद्दे पर विस्तार से विचार-विमर्श किया।

सीतारमण ने कहा कि परिषद ने प्रमुख क्षेत्रों के लिए उल्टे शुल्क ढांचे में सुधार के मुद्दे की जांच करने और दरों को युक्तिसंगत बनाने और जीएसटी से राजस्व वृद्धि के ²ष्टिकोण से छूट की समीक्षा करने के लिए एक जीओएम स्थापित करने का निर्णय लिया है।

यह भी निर्णय लिया गया कि बेहतर ई-वे बिल सिस्टम, ई-चालान, फासटैग डेटा के माध्यम से निगरानी और केंद्र और राज्य द्वारा खुफिया और समन्वित प्रवर्तन कार्यों को साझा करने के लिए संस्थागत तंत्र को मजबूत करने सहित अनुपालन में और सुधार के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करने के तरीकों और साधनों पर चर्चा करने के लिए एक जीओएम स्थापित करने का निर्णय लिया गया है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 18 Sep 2021, 12:30:02 AM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.