News Nation Logo

तनावग्रस्त वित्तीय प्रबंधन के लिए आईपीओ के माध्यम से धन जुटाने पर विचार कर रही गो फर्स्ट!

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Jul 2022, 07:20:01 PM
Go Firt

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   गो फस्र्ट एयरलाइन 57 विमानों के बेड़े के साथ भारतीय विमानन क्षेत्र में एक प्रमुख दिग्गज है। इसके नवीनतम उपलब्ध वित्तीय परिणाम तनावग्रस्त वित्तीय स्थिति को उजागर करते हैं।

इस बीच उद्योग के सूत्रों ने कहा है कि एयरलाइन की ओर से एक प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) के माध्यम से धन जुटाने की संभावना है। कंपनी फिलहाल महामारी के समय हुए नुकसान से उबरने की कोशिशों में लगी हुई है।

वित्तीय संकट का सामना कर रही गो फस्र्ट ने संयोग से, हाल के दिनों में इंजीनियरिंग या तकनीकी खराबी से संबंधित कई घटनाओं को झेला है।

विमानन नियामक ने हाल ही में इसके दो विमानों में तकनीकी खराबी आने के बाद 19 जुलाई को इसके विमानों को उड़ान भरने से रोकने का आदेश जारी किया था।

57 विमानों के बेड़े के आकार के साथ, गो फस्र्ट ने जून में 78.7 प्रतिशत अधिभोग (एक हिस्से पर कब्जा) दर्ज किया था। इसी महीने के दौरान एयरलाइन की बाजार हिस्सेदारी 9.5 फीसदी रही।

यह पूछे जाने पर कि क्या अकासा एयर और जेट एयरवेज सहित नए खिलाड़ियों के प्रवेश से मानव-शक्ति (मैन पावर) की कमी हुई है, गो फस्र्ट के प्रवक्ता ने कहा, गो फस्र्ट में पायलट, इंजीनियरिंग स्टाफ, इनफ्लाइट क्रू, हवाईअड्डा सेवाएं और अन्य सभी परिचालन कार्य सहित सभी सेवा विभागों में अनुभवी कर्मचारियों के साथ पर्याप्त रूप से कर्मचारी हैं।

नवीनतम उपलब्ध वित्तीय डेटा के अनुसार, एयरलाइन ने अप्रैल-सितंबर 2021 के दौरान 923 करोड़ रुपये के नुकसान की सूचना दी थी, हालांकि इसी अवधि के दौरान इसका कुल राजस्व 105 प्रतिशत बढ़कर 1,202.90 करोड़ रुपये हो गया था।

अधिकांश एयरलाइंस वित्तीय तनाव का सामना कर रही हैं और इस बारे में बात करते हुए विमानन सलाहकार हर्षवर्धन ने कहा कि ज्यादातर भारतीय एयरलाइंस 2008 से ही घाटे में चल रही हैं।

उन्होंने कहा, भारत में संचालन की लागत अधिक है, जबकि विमानन ईंधन की दरें भी उच्च स्तर पर हैं। नकदी प्रवाह और लिक्विडिटी प्रमुख मुद्दे रहे हैं, खासकर दो साल की कोविड अवधि के दौरान यह समस्या देखने को मिली है। कई एयरलाइनों में, पुजरें के आपूर्तिकर्ताओं को भुगतान नहीं किया गया है, जिने पूरी तरह से, आपूर्ति श्रृंखला को प्रभावित किया है।

इस बीच, एयरलाइन के प्रवक्ता ने कहा कि गो फस्र्ट के लिए अपने यात्रियों और चालक दल की सुरक्षा सर्वोपरि है और एयरलाइन अपने यात्रियों को एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करने पर अत्यधिक जोर देती है।

यात्री सुरक्षा पर, प्रवक्ता ने कहा, गो फस्र्ट यात्रियों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है और मानक प्रक्रिया के अनुसार, समय-समय पर सभी आवश्यक निवारक रखरखाव संबंधी जांच की जाती है। विमान निरीक्षण और रखरखाव अभ्यास डीजीसीए मानकों और सभी अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय विमानन मानदंडों के अनुरूप हैं।

गो फस्र्ट, जो अपने नेटवर्क का विस्तार कर रही है, ने 28 जून को कोच्चि और अबू धाबी के बीच सीधी उड़ान सेवाओं की घोषणा की थी।

गो फस्र्ट, जो मुंबई स्थित वाडिया समूह का एक हिस्सा है, ने नवंबर 2005 में अपना परिचालन (ऑपरेशन) शुरू किया था और इसने 16 साल के सफल संचालन की अवधि पूरी कर ली है।

इसके 57 विमानों के बेड़े में से, 52 फ्यूल एफिशिएंट इंजन पावर्ड ए320एनईओ हैं।

एयरलाइन के प्रवक्ता ने आगे कहा, 57 विमानों का हमारा बेड़ा भारत में सबसे छोटा बेड़ा है। बेड़े की औसत आयु मुश्किल से 36 महीने है और बेड़े की तकनीकी विश्वसनीयता 99.6 प्रतिशत से ऊपर है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Jul 2022, 07:20:01 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.