News Nation Logo
संयुक्त किसान मोर्चा के रेल रोको आंदोलन के आह्वान पर प्रदर्शनकारी बहादुरगढ़ में रेलवे ट्रैक पर बैठे बद्रीनाथ में बारिश हुई। मौसम विभाग के मुताबिक चमोली में आज बादल छाए रहेंगे और तेज़ बारिश होगी। उत्तराखंड में बारिश का अलर्ट जारी. सीएम धामी ने की श्रद्धालुओं से अपील दिल्ली में लगातार दूसरे दिन भी बारिश का दौर जारी. जगह-जगह जलभराव लखीमपुर हिंसा के विरोध में किसानों का रेल रोको आंदोलन आज. 6 घंटे ठप करेंगे ट्रैक दिल्ली सरकार का प्रदूषण के खिलाफ अभियान आज से. ढाई हजार स्वयंसेवक होंगे शामिल डेरा सच्चा सौदा राम रहीम के खिलाफ हत्या के मामले में सजा पर फैसला आज. जिले में अलर्ट जारी मुंबई-पुणे हाईवे पर खंडाला घाट के पास भीषण हादसा, 3 की मौत 24 घंटे में कोरोना के 13,596 नए केस आए सामने
Banner
Banner

घरेलू इलेक्ट्रॉनिक्स कंपोनेंट मैन्युफैक्च रिंग का जीडीपी योगदान जल्द होगा दोगुना

घरेलू इलेक्ट्रॉनिक्स कंपोनेंट मैन्युफैक्च रिंग का जीडीपी योगदान जल्द होगा दोगुना

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 05 Oct 2021, 02:00:01 PM
GDPhttppixabaycom

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: देश में इलेक्ट्रॉनिक्स घटकों के घरेलू विनिर्माण पर सरकार के बढ़ते ध्यान के साथ, इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र अगले कुछ वर्षो में सकल घरेलू उत्पाद में अपना योगदान लगभग दोगुना देखेगा। यह अनुमान उद्योग के विशेषज्ञों ने लगाया है।

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स और सेमीकंडक्टर एसोसिएशन (आईईएसए) के अध्यक्ष राजीव खुशु ने कहा, पीएमपी, स्पेक्स और पीएलआई जैसे सरकारी हस्तक्षेपों की श्रृंखला के साथ, भारत इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के लिए वैश्विक केंद्र बनने के लिए तैयार है और इस आकार की अर्थव्यवस्था के साथ हमारे देश के लिए अपना स्वयं का घटक निर्माण और इको सिस्टम होना महत्वपूर्ण है। इस क्षेत्र में आज सकल घरेलू उत्पाद में 3.4 प्रतिशत का योगदान है और अगले कुछ वर्षों में 6.4 प्रतिशत योगदान देने की उम्मीद है।

आईईएसए भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टम डिजाइन एंड मैन्युफैक्च रिंग (ईएसडीएम) और इंटेलिजेंट इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग का प्रतिनिधित्व करने वाला प्रमुख उद्योग निकाय है। अपनी सदस्य कंपनियों के साथ अपने गहरे संबंध के माध्यम से, आईईएसए का लक्ष्य भारत में ईएसडीएम और इलेक्ट्रॉनिक्स व्यवसाय खंड को विकसित करना है और भारत को इलेक्ट्रॉनिक्स और सेमीकंडक्टर डिजाइन और निर्माण के लिए पसंदीदा स्थान बनाना है।

पिछले कुछ वर्षो में, सरकार देश में महत्वपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक्स के निर्माण को सब्सिडी देने और प्रोत्साहित करने की दिशा में कई नीतियां लेकर आई है। वर्तमान में, भारत के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स आयात बिल पेट्रोलियम और पेट्रोलियम उत्पादों के बाद दूसरा सबसे बड़ा है।

सरकार ने भारत के घरेलू इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण को उल्लेखनीय रूप से बढ़ाने के लिए कई नीतियां जारी की हैं और इन नीतियों में लगातार सुधार कर रही है। इन नीतियों में नेशनल पॉलिसी ऑन इलेक्ट्रॉनिक्स (एनपीई) शामिल है जो भारत को इलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टम डिजाइन और विनिर्माण (ईएसडीएम), उत्पाद लिंक्ड प्रोत्साहन योजना (पीएलआई) और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और अर्धचालकों के निर्माण को बढ़ावा देने की योजना (एसपीईसीएस) का वैश्विक केंद्र बनाने का दृष्टिकोण निर्धारित करती है।

इन्वेस्ट इंडिया से उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, भारत में निवेश को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार एजेंसी, इलेक्ट्रॉनिक घटक उत्पादन 2014 से 2018 तक 4 बिलियन डॉलर तक बढ़ गया है, जबकि इलेक्ट्रॉनिक घटकों के लिए वैश्विक बाजार 2022 तक 191.8 बिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है। भारत का वैश्विक इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण में हिस्सेदारी 2012 में 1.3 प्रतिशत से बढ़कर 2019 में 3.6 प्रतिशत हो गई है। भारतीय इलेक्ट्रॉनिक घटक बाजार में वृद्धि घरेलू मांग में वृद्धि और मेक इन इंडिया और डिजिटल इंडिया जैसी पहलों के साथ बढ़ते इलेक्ट्रॉनिक्स पारिस्थितिकी तंत्र से प्रेरित है। इसके परिणामस्वरूप भारतीय इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट्स बाजार वित्तीय वर्ष 2009-10 में 11 बिलियन डॉलर से बढ़कर वित्त वर्ष 2018-19 में 20.8 बिलियन डॉलर हो गया है, जो लगभग 7 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि दर दर्शाता है।

खुशु ने बताया, बीस के दशक में भारत की औसत आयु के साथ इलेक्ट्रॉनिक्स की खपत अगले कुछ दशकों में 15 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ रही है और इसके परिणामस्वरूप हम ईएसडीएम खपत में शीर्ष 3 देशों और इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन में शीर्ष 5 देशों में छलांग लगाएंगे।

इसके अलावा, डिजिटल इंडिया और स्मार्ट सिटी परियोजनाओं जैसी पहलों ने इंटरनेट ऑफ थिंग्स की मांग को बढ़ा दिया है। भारतीय इलेक्ट्रॉनिक्स बाजारों को दुनिया में सबसे बड़ा माना जाता है और इसके साल 2025 तक 400 अरब डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 05 Oct 2021, 02:00:01 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो