News Nation Logo
मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

वैश्विक तेल दरों में तेजी के बावजूद पेट्रोल, डीजल की कीमतें स्थिर

वैश्विक तेल दरों में तेजी के बावजूद पेट्रोल, डीजल की कीमतें स्थिर

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 11 Nov 2021, 12:40:02 PM
Fuel price

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: तेल विपणन कंपनियों के दैनिक मूल्य संशोधन तंत्र के तहत गुरुवार को लगातार सातवें दिन पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ, जिससे उपभोक्ताओं को और राहत मिली।

दिल्ली में पेट्रोल का पंप मूल्य पिछले सप्ताह गुरुवार को सुबह 6 बजे गिरकर 103.97 रुपये प्रति लीटर हो गया, जो पिछले दिन के 110.04 रुपये प्रति लीटर के स्तर पर रहा। डीजल की कीमतें भी राजधानी में 86.67 रुपये प्रति लीटर पर अपरिवर्तित रहीं।

आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल की कीमत 109.98 रुपये प्रति लीटर और डीजल 94.14 रुपये प्रति लीटर पर जारी रहा।

कोलकाता में बुधवार को भी कीमतें स्थिर रहीं, जहां पिछले सप्ताह पेट्रोल की कीमत 5.82 रुपये घटकर 104.67 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत 11.77 रुपये घटकर 89.79 रुपये प्रति लीटर हो गई।

चेन्नई में पेट्रोल की कीमत भी 101.40 रुपये प्रति लीटर और डीजल 91.43 रुपये प्रति लीटर पर बनी रही।

देशभर में भी, गुरुवार को ईंधन की कीमत काफी हद तक अपरिवर्तित रही, लेकिन स्थानीय करों के स्तर के आधार पर खुदरा दरें भिन्न रहीं।

इस नरमी के बाद, वैश्विक कच्चे तेल की कीमतें फिर से तीन साल के उच्च स्तर 85 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गई हैं। अमेरिकी इन्वेंट्री में वृद्धि ने कच्चे तेल की कीमतों को थोड़ा नीचे धकेल दिया है, लेकिन ओपेक प्लस के दिसंबर में उत्पादन में केवल क्रमिक वृद्धि के निर्णय से कच्चे तेल की कीमतों में और वृद्धि हो सकती है। इससे तेल कंपनियों पर फिर से ईंधन की कीमतों में बदलाव करने का दबाव पड़ सकता है।

कीमतों में कटौती और ठहराव से पहले, डीजल की कीमतों में पिछले 48 दिनों में से 30 बार बढ़ोतरी हुई है, जिससे दिल्ली में इसकी खुदरा कीमत 9.90 रुपये प्रति लीटर हो गई है।

1 जनवरी से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में ड्यूटी में कटौती से पहले 26 रुपये प्रति लीटर से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है।

केंद्र द्वारा पिछले सप्ताह उत्पाद शुल्क में कटौती कोविड महामारी की शुरूआत के बाद से इस तरह की पहली कवायद है। दरअसल, कोविड राहत उपायों के लिए अतिरिक्त संसाधन जुटाने के लिए सरकार ने पिछले साल मार्च और मई में पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में तेजी से बदलाव किया।

मार्च 2020 और मई 2020 के बीच पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में 13 रुपये और 16 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि की गई और अंत में केंद्र द्वारा शुल्क में कटौती का फैसला करने से पहले डीजल पर 31.8 रुपये और पेट्रोल पर 32.9 रुपये प्रति लीटर पर उच्च स्तर पर रहा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 11 Nov 2021, 12:40:02 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो