News Nation Logo
अनन्या पांडे से सोमवार को फिर पूछताछ करेगी NCB अभिनेत्री अनन्या पांडे एनसीबी कार्यालय से रवाना हुईं, करीब 4 घंटे चली पूछताछ DRDO ने ओडिशा के चांदीपुर रेंज से हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) का सफल परीक्षण किया कल जम्मू-कश्मीर जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक 27 अक्टूबर को, छठ पूजा उत्सव के लिए ली जाएगी अनुमति 1971 के भारत-पाक युद्ध ने दक्षिण एशियाई उपमहाद्वीप के भूगोल को बदल दिया: सीडीएस जनरल बिपिन रावत माता वैष्णों देवी मंदिर में तीर्थयात्रियों के बीच कोरोना का प्रसार रोकने के लिए नए दिशा-निर्देश जारी दिल्ली जा रही फ्लाइट में एक आदमी की अचानक तबीयत ख़राब होने पर फ्लाइट की इंदौर में इमरजेंसी लैंडिंग 1971 का युद्ध, इसमें भारतीयों की जीत और युद्ध का आधार बेहद खास है: राजनाथ सिंह केंद्र सरकार की टीम उत्तराखंड में आपदा से हुई क्षति का आकलन कर रही है: पुष्कर सिंह धामी रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज बेंगलुरु में वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान का दौरा किया शिवराज सिंह चौहान ने शोपियां मुठभेड़ में शहीद जवान कर्णवीर सिंह को सतना में श्रद्धांजलि दी मुंबई के लालबाग इलाके में 60 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक

ई-कॉमर्स नियम: कैट ने सख्त निगरानी और मौजूदा एक्रोनी कैपिटलिज्म को समाप्त करने की मांग की

ई-कॉमर्स नियम: कैट ने सख्त निगरानी और मौजूदा एक्रोनी कैपिटलिज्म को समाप्त करने की मांग की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 25 Jul 2021, 05:05:02 PM
E-commerce rule

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: भारत में संरचित और पारदर्शी ई-कॉमर्स व्यवसाय के संचालन के लिए ई-कॉमर्स नियमों के मसौदे को दिशानिदेशरें का एक आदर्श सेट बताते हुए, कन्फेडरेशन ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि, यदि नियमों को लागू किया जाता है तो देश में ई-कॉमर्स परि²श्य में कथित रूप से मौजूद एक्रोनी कैपिटलिज्म को समाप्त करना चाहिए।

व्यापारियों के निकाय ने ऑनलाइन बड़ी कंपनियों द्वारा इन नियमों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए एक निगरानी तंत्र के साथ आने का भी सुझाव दिया है। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय को लिखे पत्र में यह भी सुझाव दिया गया है कि नियमों का उल्लंघन होने पर दंडात्मक कार्रवाई की जानी चाहिए।

कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि विदेशी वित्त पोषित ई-टेलर और कुछ प्रमुख उद्योग मंडल मसौदा नियमों का विरोध करने के लिए लचर तर्क दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि यह मसौदा नियमों को हटाने के लिए उद्योग मंडलों द्वारा समर्थित कंपनियों के निहित स्वार्थों का एक भयावह जाल है। हालांकि, देश के आठ करोड़ से अधिक छोटे व्यवसाय किसी भी गलत आख्यान का विरोध करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, अगर कोई मसौदा नियमों के आसपास बनाने की कोशिश करता है।

उन्होंने कहा कि भारत में ई-कॉमर्स व्यवसाय का समावेशी विकास काफी हद तक चार मूल सिद्धांतों पर निर्भर करता है - ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म का पारदर्शी संचालन, ई-कॉमर्स संस्थाओं द्वारा आसान पहुंच और पर्याप्त शिकायत निवारण, सभी हितधारकों के लिए मार्केटप्लेस प्लेटफॉर्म की गैर-भेदभावपूर्ण पहुंच मूल्य-श्रृंखला का, प्लेटफॉर्म पर बाजार के प्लेटफॉर्म, विक्रेताओं और विभिन्न सेवा प्रदाताओं के बीच हितों के टकराव से बचाव।

संगठन ने आगे कहा कि किसी भी इकाई में इक्विटी या आर्थिक हित रखने वाले किसी भी बाजार को बडें बाजार पर सामान बेचने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए और इसे संबद्ध इकाई के रूप में माना जाना चाहिए।

अपने सबमिशन में, कैट ने तर्क दिया कि, किसी भी ई-मोड के माध्यम से व्यवसाय करने वाली ई-कॉमर्स संस्थाओं का अनिवार्य पंजीकरण एक अच्छी तरह से परिभाषित इको-सिस्टम की पर्याप्त नींव रखना चाहिए और पंजीकरण के साथ ई-कॉमर्स परि²श्य की सीमा को आसानी से देखा जा सकता है।

पारदर्शिता किसी भी व्यावसायिक गतिविधि की पहचान होनी चाहिए और इसलिए प्रत्येक ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस को सभी हितधारकों के संबंध में पारदर्शी तरीके से कार्य करना चाहिए, अर्थात - ग्राहक, विक्रेता, लॉजिस्टिक्स पार्टनर और पेमेंट गेटवे।

इसलिए, व्यापारियों के निकाय के अनुसार, पूर्व-खरीद चरण में उपभोक्ता को विक्रेताओं और उत्पादों के बारे में सभी जानकारी का खुलासा करते हुए उक्त प्लेटफॉर्म पर पंजीकृत प्लेटफॉर्म और विक्रेताओं के बीच सभी प्रकार के समझौते का खुलासा पारदर्शी तरीके से किया जाना चाहिए।

इसके अलावा, ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस द्वारा उपयोग किए जाने वाले सर्च एल्गोरिथम को पारदर्शी रूप से प्रकट किया जाना चाहिए और उपयोगकतार्ओं को प्रदर्शित किया जाना चाहिए ताकि वे सूचित विकल्प बना सकें।

अन्य सुझावों के अलावा,कैट ने कहा है कि यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि उपभोक्ता अपनी चिंताओं को हल करने के लिए मार्केटप्लेस संस्थाओं के वरिष्ठ शिकायत निवारण अधिकारियों तक पहुंच सकें। इसलिए शिकायत अधिकारी, नोडल अधिकारी और अनुपालन अधिकारी की नियुक्ति का प्रावधान प्रशंसनीय है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 25 Jul 2021, 05:05:02 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो