News Nation Logo
दिल्ली के राजीव गांधी अस्पताल में फ्री डायलिसिस बंद पीपीपी मॉडल का है डायलिसिस सेंटर पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से की मुलाकात 12 देशों के मुसाफिरों के लिए गाइडलाइन्स जारी ओमीक्रोन पर DDMA की हाईलेवल मीटिंग अगले आदेश तक दिल्ली में निर्माणकार्य पर रोक निर्माण से जुड़े मजदूरों को सरकारी मदद दी जाएगी दिल्ली में पब्लिक ट्रांसपोर्ट बढ़ाया जाएगा ओमीक्रोन से निपटने के लिए हम पूरी तरह तैयार: मनीष सिसोदिया संसद के दोनों सदनों से कृषि कानून वापसी बिल पास कृषि कानूनों की वापसी का बिल पारित होना जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि है: राकेश टिकैत एमएसपी समेत अन्य मुद्दे लंबित रहने के कारण विरोध जारी रहेगा: राकेश टिकैत हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल पास दक्षिण अफ्रीका से महाराष्ट्र लौटा शख्स कोरोना पॉजिटिव आम आदमी पार्टी नहीं होगी विपक्षी दलों की बैठक में शामिल

RBI Credit Policy: अगले वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ में आ सकता है सुधार, RBI ने जताया अनुमान

RBI Credit Policy: रिजर्व बैंक (RBI) ने मौद्रिक नीति समिति की बैठक के नतीजों की बृहस्पतिवार को घोषणा करते हुए कहा कि जब तक संभव है, वह नीतिगत रुख को उदार बनाए रखेगा.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 06 Feb 2020, 12:34:28 PM
RBI Credit Policy 2020: जीडीपी ग्रोथ (GDP Growth)

RBI Credit Policy 2020: जीडीपी ग्रोथ (GDP Growth) (Photo Credit: फाइल फोटो)

मुंबई:

RBI Credit Policy: रिजर्व बैंक (Reserve Bank) ने नीतिगत ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. रिजर्व बैंक ने रेपो रेट 5.15, रिवर्स रेपो रेट 4.90 फीसदी, एमएसएफआर 5.40 फीसदी और बैंक रेट 5.40 फीसदी के स्तर पर बरकरार रखा है. RBI ने CRR 4 फीसदी और SLR 18.5 फीसदी पर बनाए रखने की घोषणा की है. रिजर्व बैंक (RBI) ने मौद्रिक नीति समिति की बैठक के नतीजों की बृहस्पतिवार को घोषणा करते हुए कहा कि जब तक संभव है, वह नीतिगत रुख को उदार बनाए रखेगा.

यह भी पढ़ें: नए टैक्स सिस्टम में ELSS पर पड़ सकता है बड़ा असर, जानिए क्या

2019-20 में GDP ग्रोथ 5 फीसदी रहने का अनुमान
रिजर्व बैंक ने आर्थिक वृद्धि दर 2019-20 में 5 प्रतिशत रहने के अनुमान को बनाये रखा है. रिजर्व बैंक ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए जीडीपी ग्रोथ सुधरकर 6 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया है. वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में 6.2 फीसदी ग्रोथ और पहली छमाही में ग्रोथ 5.5-6 फीसदी रहने का अनुमान है. रिजर्व बैंक के गर्वनर शक्तिकांत दास ने कहा कि आर्थिक वृद्धि दर अभी भी अपनी संभावित क्षमता से कम है. उन्होंने कहा कि आर्थिक गतिविधियां नरम बनी हुई हैं. जिन चुनिंदा संकेतकों में हालिया समय में सुधार देखने को मिला है, व्यापक स्तर पर इनमें भी अभी तेजी आनी शेष है. वृद्धि दर की तुलना में मुद्रास्फीति की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए मौद्रिक नीति समिति को लगता है कि स्थिति को यथावत रखा जाना चाहिये.

यह भी पढ़ें: Gold Rate Today 6 Feb 2020: क्या आज सस्ते होंगे सोना और चांदी, जानिए दिग्गज जानकारों का नजरिया

उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में मुद्रास्फीति के उच्च बने रहने की आशंका है. उसने मुद्रास्फीति के परिदृश्य को बेहद अनिश्चित बताया. रिजर्व बैंक ने बताया कि मौद्रिक नीति समिति के सभी छह सदस्यों ने रेपो दर यथावत रखने का पक्ष लिया. उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक ने फरवरी 2019 से अक्टूबर 2019 के दौरान रेपो दर में 1.35 प्रतिशत की कटौती की थी. (इनपुट भाषा)

First Published : 06 Feb 2020, 12:34:28 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.