News Nation Logo
Banner

कैट ने ई-कॉमर्स नियमों में दखल के लिए नीति आयोग की खिंचाई की (लीड)

कैट ने ई-कॉमर्स नियमों में दखल के लिए नीति आयोग की खिंचाई की (लीड)

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 28 Aug 2021, 05:00:01 PM
CAIT lam

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने शनिवार को उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित ई-कॉमर्स नियमों में हस्तक्षेप करने के लिए नीति आयोग की खिंचाई की और कहा कि नीति आयोग द्वारा ली गई ऐसी लाइन स्पष्ट रूप से प्रतीत होती है।

कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने नीति आयोग पर तीखा प्रहार किया और कहा, यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि नीति आयोग ने अपनी स्थापना के बाद से पिछले सात वर्षों में भारत के 8 करोड़ व्यापारियों का समर्थन करने के लिए बिल्कुल कुछ नहीं किया है और अब जब सरकार कोशिश कर रही है खुदरा क्षेत्र में समान अवसर पैदा करने के लिए नीति आयोग बीच में दखल दे रहा है और प्रक्रिया को पटरी से उतारने की कोशिश कर रहा है।

सीएआईटी अध्यक्ष बी.सी. भरतिया ने यह भी कहा, नीति आयोग के इतने कठोर और उदासीन रवैये को देखना बेहद चौंकाने वाला है, जो पिछले इतने सालों से मूकदर्शक बने हुए हैं, जब विदेशी ई-कॉमर्स दिग्गजों ने एफडीआई नीति के हर नियम को दरकिनार कर दिया है और खुले तौर पर देश के खुदरा और ईकॉमर्स परि²श्य का उल्लंघन किया और नष्ट कर दिया, लेकिन अचानक अपना मुंह खोलने का फैसला किया है जब प्रस्तावित ई-कॉमर्स नियम संभावित रूप से ई-कॉमर्स कंपनियों के भ्रष्टाचार को समाप्त करेंगे।

दोनों नेताओं ने दोहराया कि उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय को उपभोक्ता संरक्षण ई-कॉमर्स नियमों के मसौदे को जल्द से जल्द लागू करना चाहिए क्योंकि वे उपभोक्ताओं के साथ-साथ देश के व्यापारियों के सर्वोत्तम हित में हैं क्योंकि यह न केवल सर्वोत्तम गुणवत्ता और कीमत सुनिश्चित करेगा।

उपभोक्ताओं के साथ-साथ 8 करोड़ भारतीय व्यापारियों के लिए सतत विकास का एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र भी बनाते हैं जो अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं और प्रधान मंत्री मोदी के 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था के ²ष्टिकोण का एक अभिन्न अंग हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 28 Aug 2021, 05:00:01 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.