News Nation Logo

अरुण जेटली ने दिए संकेत, जीएसटी स्लैब में कटौती कर सकती है सरकार

अरुण जेटली ने कहा कि यदि कर स्तर भविष्य में 'रेवेन्यू न्यूट्रल प्लस' पर पहुंच जाता है, यानी तय सीमा से अधिक राजस्व आता है तो जीएसटी के स्लैब कम किए जा सकते हैं।

IANS | Edited By : Vineet Kumar | Updated on: 02 Oct 2017, 06:39:46 AM
जीएसटी स्लैब होगा कम (फाइल फोटो)

highlights

  • तय सीमा से अधिक राजस्व आने पर घट सकता है जीएसटी स्लैब
  • फिलहाल देश में जीएसटी के तहत कर के चार स्लैब
  • पांच प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत और 28 प्रतिशत हैं जीसटी स्लैब

नई दिल्ली:  

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने रविवार को संकेत दिया कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के स्लैब कम किए जा सकते हैं।

अरुण जेटली ने एक कार्यक्रम में कहा कि यदि कर स्तर भविष्य में 'रेवेन्यू न्यूट्रल प्लस' पर पहुंच जाता है, यानी तय सीमा से अधिक राजस्व आता है तो वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के स्लैब कम किए जा सकते हैं।

जेटली ने नेशनल एकेडमी ऑफ कस्टम्स, इनडायरेक्ट टैक्सेज एंड नारकोटिक्स (एनएसीआईएन) के स्थापना दिवस के मौके पर यह बात कही।

जेटली के मुताबिक, मौजूदा जीएसटी प्रणाली के कर स्लैब तभी कम किए जाएंगे, जब राजस्व निर्धारित सीमा से अधिक आएगा।

यह भी पढ़ें: विकास की मांग करने वाले को चुकानी होगी जरूरी कीमत: अरुण जेटली

जेटली ने सरकार के राजस्व को सभी विकास गतिविधियों की जीवनरेखा कहा है। राज्य के अधिक संसाधन राष्ट्रीय सुरक्षा, ग्रामीण अर्थव्यवस्था और बुनियादी ढांचागत विकास के लिए उपयोग में लाए जा सकते हैं।

जेटली ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, 'अब, जब लोगों के पास विकास की मांग करने का अधिकार है तो उनके ऊपर विकास के लिए जरूरी चीजों के लिए भुगतान करने की भी जिम्मेदारी है और इस पैसे को समाज और देश के व्यापक लाभ के लिए ईमानदारी से खर्च करने की जरूरत है।'

उन्होंने कहा, 'समाज में जहां बड़े पैमाने पर वित्तीय घाटा है, एक ऐसा समाज जो पारंपरिक तौर पर कर का भुगतान नहीं करने वाला समाज है। ऐसे समाज में आज बदलाव आ रहा है, यहां लोग धीरे-धीरे कर के अधिक अनुकूल होने के गुण को पहचानने लगे हैं और यही उन कारणों में से एक है कि हमने एकीकृत कर (जीएसटी) प्रणाली को चुना है।'

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने एक जुलाई से देशभर में सभी अप्रत्यक्ष करों के स्थान पर एक नई कर प्रणाली जीएसटी लागू की है।

जेटली कहते हैं, 'हमारे पास सुधार की गुंजाइश है। एक बार 'रेवेन्यू न्यूट्रल प्लस' पर पहुंचने के बाद यानी तय सीमा से अधिक राजस्व आने के बाद जीएसटी के स्लैब घटाए जाएंगे।'

यह भी पढ़ें: लड़ाकू विमान 'तेजस' बनाने वाली कंपनी HAL की 10 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी सरकार, IPO लाने की तैयारी शुरू

जेटली ने कहा कि अप्रत्यक्ष करों से सभी प्रभावित होते हैं और लोगों द्वारा सर्वाधिक इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुएं सबसे कम कर की श्रेणी में रखी गई हैं।

मौजूदा समय में देश में कर के चार स्लैब यानी पांच प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत और 28 प्रतिशत हैं। इसके साथ ही जीएसटी लागू होने के शुरुआती पांच वर्षो में राज्य सरकारों को होने वाले राजस्व घाटे की भरपाई के लिए कार, बोतलबंद पेय, तंबाकू उत्पाद जैसे लग्जरी सामानों पर अतिरिक्त कर का भी प्रावधान है।

जीएसटी के तहत 81 फीसदी सामानों पर 18 फीसदी या इससे कम कर है और सिर्फ 19 फीसदी सामानों पर अधिकतम 28 फीसदी कर है।

यह भी पढ़ें: फिर बढ़ी सब्सिडी वाले रसोई गैस की कीमत, एटीएफ भी हुआ 6 फीसदी महंगा

First Published : 01 Oct 2017, 06:25:10 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Gst Arun Jaitley