News Nation Logo

5 हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने में भारत का साझीदार बनेगा अमेरिका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को तीन हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था से आगे बढ़ाकर 2024 तक पांच हजार अरब डॉलर और 2030 तक दस हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है.

Bhasha | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 08 Feb 2020, 02:56:23 PM
भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy)

भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) (Photo Credit: फाइल फोटो)

वाशिंगटन:

भारत 2024 तक पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की अपनी राह में अमेरिका के साथ व्यापार व कारोबार में भागोदारी को उच्च मान देता है. अमेरिका में भारत के नये राजदूत तरणजीत सिंह संधू ने शुक्रवार को एक कार्यक्रम में यह बात कही. अमेरिका-भारत रणनीतिक एवं भागीदारी फोरम ने यहां संधु के सम्मान में रात्रिभोज का आयोजन किया था. संधु ने कार्यक्रम में अमेरिका के कारोबारी समुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच तालमेल की संभावनाएं असीम हैं.

यह भी पढ़ें: स्टेट बैंक (SBI) ने फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) को लेकर किया बड़ा फैसला, होगा ये नुकसान

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को तीन हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था से आगे बढ़ाकर 2024 तक पांच हजार अरब डॉलर और 2030 तक दस हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने यह स्पष्ट किया है कि इस यात्रा में भारत के लिए अमेरिका के साथ व्यापार व कारोबार क्षेत्र में भागीदार महत्वपूर्ण होगी. संधु ने कहा कि हमारी सरकारों के बीच संबंधों को एक नयी गति मिली है. इसे हमारे नेताओं के बीच गर्मजोशी भरे संबंध से शक्ति मिल रही है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री मोदी की पिछले साल आपस में चार मुलाकातें हुई थीं.

यह भी पढ़ें: विदेशी मुद्रा (Forex Reserve) और सोने के भंडार में हुई बढ़ोतरी, जानिए क्या है वजह

उन्होंने कहा कि दोनों देश के उद्यमी और कारोबारी दोनों देशों के संबंधों के महत्वपूर्ण हिस्सेदार है. राजदूत ने कहा कि भारत में अमेरिका की दो हजार से अधिक कंपनियां कारोबार कर रही हैं. भारत की 200 से अधिक कंपनियों ने अमेरिका में 18 अरब डॉलर का निवेश किया है जिससे रोजगार के एक लाख से अधिक प्रत्यक्ष अवसर सृजित हुए हैं. दोनों देशों का द्विपक्षीय निवेश 2018 मे बढ़कर 60 अरब डॉलर पर पहुंच गया था.

यह भी पढ़ें: 7th Pay Commission: RMS कर्मचारियों के लिए आउटस्टेशन अलाउंस को लेकर हुआ बड़ा फैसला

उन्होंने कहा कि द्विपक्षीय व्यापार सालाना आधार पर 10 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है और 2019 में 160 अरब डॉलर पर पहुंच गया है. संधु ने कहा कि यह मुझमें हमारे दोनों देशों के बीच के संबंधों के प्रति उत्साह भरता है और अभी इसमें बहुत कुछ संभव है. अमेरिका की पूंजी और विशेषज्ञता तथा भारतीय बाजार व मस्तिष्क के मेल से कोई भी मंजिल दूर नहीं हो सकती है.

First Published : 08 Feb 2020, 02:56:23 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.