News Nation Logo
Banner

दाल इंपोर्ट (Pulses Import) को लेकर कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने दिया ये बड़ा बयान

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के आह्वान के बाद दलहनों के आयात पर निर्भरता कम हुई है और इससे देश को प्रतिवर्ष 15000 करोड़ से अधिक की बचत हो रही है.

IANS | Updated on: 11 Feb 2021, 09:02:14 AM
नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar)

नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) (Photo Credit: IANS)

highlights

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान के बाद दलहनों के आयात पर निर्भरता कम हुई
  • भारत, दलहन उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है: कृषि मंत्री 

नई दिल्ली :

Pulses Import Latest News: केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने कहा है कि विगत वर्षो के दौरान देश में दहलनी फसलों (Pulses Crop) के उत्पादन में बढ़ोतरी से दाल के आयात (Pulses Import) पर भारत की निर्भरता कम हुई है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के आह्वान के बाद दलहनों के आयात पर निर्भरता कम हुई है और इससे देश को प्रतिवर्ष 15000 करोड़ रुपये से अधिक की बचत हो रही है. कृषि मंत्री ने कहा कि भारत, दलहन उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है. केंद्रीय मंत्री तोमर विश्व दलहन दिवस पर भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान (आईआईपीआर) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बतौर अतिथि बोल रहे थे. इस मौके पर उन्होंने आईआईपीआर के क्षेत्रीय केंद्र भोपाल व बीकानेर में कार्यालय व प्रयोगशाला भवन का उद्घाटन भी किया, साथ ही आईआईपीआर के क्षेत्रीय केंद्र खोरधा (ओडिशा) की आधारशिला रखी.

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में 123 फीसदी बढ़ा गैर-बासमती चावल का एक्सपोर्ट, पढ़ें पूरी खबर

विश्व खाद्य एवं कृषि संगठन ने लिया विश्व दलहन दिवस मनाने का निर्णय 
इस अवसर पर 'आत्मनिर्भरता एवं पोषण सुरक्षा विषय पर' तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का भी किया गया है, जिसमें 700 से अधिक वैज्ञानिक, शोधकर्ता, नीति निर्माता , छात्र-छात्राएं एवं किसान बंधु शामिल हो रहे हैं, जो दलहन व पोषण सुरक्षा पर विस्तार से चर्चा करेंगे. नरेंद्र सिंह तोमर केंद्र सरकार में ग्रामीण विकास, पंचायत राज तथा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री भी हैं. उन्होंने कहा, "विश्व खाद्य एवं कृषि संगठन ने लोगों के स्वास्थ्य पर दलहनी फसलों के अच्छे प्रभाव को देखते हुए विश्व दलहन दिवस मनाने का निर्णय लिया है, जिससे दुनिया का ध्यान दलहनी फसलों को बढ़ावा देने पर जाएगा और हमारे सामूहिक प्रयासों को बल मिलेगा.

तोमर ने कहा कि देश में गेहूं व धान की खरीद तो एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) पर होती थी, लेकिन दलहन व तिलहन की खरीद की व्यवस्था नहीं थी, केंद्र सरकार ने किसानों को आय समर्थन के लिए इन्हें भी एमएसपी पर खरीदने की व्यवस्था की है. उन्होंने कहा कि बीते छह साल में दालों के एमएसपी में 40 फीसदी से 73 फीसदी तक बढ़ोतरी की गई है, जिसका लाभ निश्चित ही किसानों को मिल रहा है. उन्होंने कहा कि कुपोषण दूर करने के लिए भी दलहन पर और काम करने की जरूरत है। इसमें भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद की मुख्य भूमिका रही है, कृषि वैज्ञानिक अनेक किस्में देश को उपलब्ध करा रहे हैं, जिनसे उत्पादन व उत्पादकता बढ़ाने में मदद मिलेगी. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) ने किसानों की आमदनी वर्ष 2022 तक दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है और इस लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में केंद्र व राज्य सरकारें और आईसीएआर के साथ-साथ किसान पूरी तन्मयता से काम कर रहे हैं, जिसका प्रतिफल मिलेगा.

यह भी पढ़ें: फेड चेयरमैन के बयान के बाद बढ़ सकते हैं सोने के दाम, जानिए आज की रणनीति

किसानों को सुरक्षा कवच मिल सके और वे जोखिम से बेफिक्र हो सकें, इसलिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना परिवर्तित रूप में लागू की गई हैं. तोमर ने कहा कि देश में 86 फीसदी छोटे व सीमांत किसान है, उनको खेती से तभी मुनाफा होगा, जब वे महंगी फसलों की ओर आकर्षित होंगे और नई टेक्नालॉजी से जुड़ेंगे, जिससे कृषि उपज की लागत कम होगी. उन्होंने कहा कि बेहतर प्रजातियां एवं उच्च गुणवत्तायुक्त बीज अच्छी फसल का एक प्रमुख घटक है। इसे ध्यान में रखते हुए 150 दलहन बीज हब की स्थापना की गई है. तोमर ने तिलहन के क्षेत्र में भी देश को आत्मनिर्भर बनाने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि इस दिशा में भी चिंता करने की जरूरत है. कार्यक्रम को कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी तथा आईसीएआर के महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्र ने भी संबोधित किया। इस मौके पर आईसीएआर के उप महानिदेशक (फसल विज्ञान) डॉ. तिलक राज शर्मा, सहायक महानिदेशक डॉ. संजीव गुप्ता, आईआईपीआर के निदेशक डॉ. एन.पी. सिंह एवं किसान, वैज्ञानिक व अन्य अधिकारी भी मौजूद थे.

First Published : 11 Feb 2021, 09:02:14 AM

For all the Latest Business News, Commodity News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.