News Nation Logo
Banner

बड़ी खबर: फसल के नुकसान की तुरंत भरपाई करे बीमा कंपनियां, सरकार ने दिए निर्देश

राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) ने पंजाब सरकार (Punjab Government) से भी अनुरोध किया है कि कटाई मशीनों के लिये अंतरराज्जीय परमिट और पास जारी करे ताकि उन्हें कटाई के काम के लिए राजस्थान पहुंचने में सुविधा हो.

Bhasha | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 28 Mar 2020, 08:19:47 AM
wheat crop

फसल (Rabi Crop) (Photo Credit: फाइल फोटो)

जयपुर:  

राजस्थान में पिछले कुछ दिनों से रुक-रुक कर हो रही बारिश के कारण खड़ी फसलों (Rabi Crop) के नुकसान की आशंका के चलते राज्य सरकार ने बीमा कंपनियों (Insurance Companies) से किसानों के फसल नुकसान के दावों का तुरंत समाधान करने के निर्देश दिये हैं. राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) ने पड़ोसी राज्य पंजाब सरकार (Punjab Government) से भी अनुरोध किया है कि कटाई मशीनों के लिये अंतरराज्जीय परमिट और पास जारी करे ताकि उन्हें कटाई के काम के लिए राजस्थान पहुंचने में सुविधा हो.

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में किसानों को मोदी सरकार से मिली बड़ी राहत, फसलों की बुवाई और कटाई पर रोक नहीं

किसानों को आपदा के 72 घंटे के अंदर सूचित करना होगा

कृषि विभाग (Agriculture Department) के आयुक्त डॉ. ओम प्रकाश ने बताया कि बीमित काश्तकार को बेमौसम बरसात एवं ओलावृष्टि (Unseasonal Rain And Hailstorm) से हुए नुकसान के लिये बीमा मुआवजे के लिए आपदा के 72 घंटे के भीतर सीधे बीमा कंपनी को टोल फ्री नंबर पर सूचित करना होगा. उन्होंने कहा कि खड़ी फसल के खराब होने पर व्यक्तिगत आवेदन करने की जरूरत नहीं है. उन्होंने बीमा कंपनियों के क्षेत्रीय प्रबंधकों को टोल फ्री नम्बर 24 घंटे चालू रखवाना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं. राज्य के जिला कलेक्टरों को भी कटाई मशीनों के जिलों में आने जाने की अनुमति देने के लिए निर्देशित किया गया है. कोविड -19 संक्रमण को रोकने के लिए दिशानिर्देशों का पालन करते हुए उन्हें बीज, उर्वरकों और कीटनाशकों की समय पर और पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए भी कहा गया है.

यह भी पढ़ें: SBI ने किया सस्ते लोन का ऐलान, आप उठा सकते हैं इसका फायदा

प्रमुख शासन सचिव नरेश पाल गंगवार ने एक बयान में कहा कि हाथ से काम करने वाले मजदूर की जगह मशीनों के इस्तेमाल से वायरस फैलने से रोका जा सकेगा. राजस्थान के कई हिस्सों बृहस्पतिवार से हो रही बारिश के बाद न्यूनतम और अधिकतम तापमान में औसतन 4-5 डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गई. मौसम विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि आज सुबह साढे आठ बजे तक डबोक में 26 मिलीमीटर, कोटा में 18 मिलीमीटर, चित्तोडगढ में 17 मिलीमीटर, जैसलमेर में 15.15 मिलीमीटर, जोधपुर में 9.5 मिलीमीटर, अजमेर में 9.1 मिलीमीटर, बीकानेर में 8.2 मिलीमीटर, जयपुर में 6.8 मिलीमीटर, बूंदी में 6 मिलीमीटर और अन्य कई स्थानों पर बारिश दर्ज की गई.

यह भी पढ़ें: Good News: कोरोना वायरस का टीका विकसित करने में जुटे भारतीय वैज्ञानिक

उन्होंने बताया कि शुक्रवार सुबह से शाम तक श्रीगंगानगर में 12.2 मिलीमीटर, चूरू में 5.6 मिलीमीटर, बीकानेर में 2.1 मिलीमीटर, कोटा में 1.2 मिलीमीटर और राजधानी जयपुर में 0.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. उन्होंने बताया कि राज्य के अधिकतर स्थानों पर अधिकतम तापमान 21 डिग्री सैल्सियस से लेकर 29.5 डिग्री सेल्सियस के बीच रहा. वहीं न्यूनतम तापमान 14.4 डिग्री सेल्सियस से लेकर 18.3 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज किया गया है. विभाग ने आगामी 24 घंटों के दौरान राज्य के कुछ हिस्सों में बारिश होने की संभावना जताई है.

First Published : 28 Mar 2020, 08:19:47 AM

For all the Latest Business News, Commodity News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.