News Nation Logo
Banner

भारत में मार्च के दौरान खाद्य तेल के इंपोर्ट में भारी गिरावट, जानिए क्या है वजह

साल्वेंट एक्स्ट्रैटर्स एसोसिएशन (Solvent Extractors Association of India-SEA) ने कहा कि विदेशी बाजारों से रिफाइंड पाम तेल (Refined Palm Oil) की खरीद पर सरकारी प्रतिबंध लगाने से आयात में कमी आई है.

Bhasha | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 06 Apr 2020, 04:38:53 PM
edible oil

खाद्य तेल (Edible Oil) (Photo Credit: फाइल फोटो)

दिल्ली:  

भारत में खाद्य तेल (Edible Oil) आयात मार्च में 32.44 प्रतिशत घटकर 9 लाख 41 हजार 219 टन रह गया. साल्वेंट एक्स्ट्रैटर्स एसोसिएशन (Solvent Extractors Association of India-SEA) ने सोमवार को कहा कि विदेशी बाजारों से रिफाइंड पाम तेल (Refined Palm Oil) की खरीद पर सरकारी प्रतिबंध लगाये जाने की वजह से आयात में कमी आई है. भारत दुनिया में वनस्पति तेलों का प्रमुख खरीदार देश है.

यह भी पढ़ें: EPFO ने ऑनलाइन आवेदन के जल्द से जल्द निपटारे के लिए उठाया ये बड़ा कदम

मार्च में 13 लाख 93 हजार 255 टन वनस्पति तेल का इंपोर्ट

पिछले साल मार्च में देश में 13 लाख 93 हजार 255 टन तेल का आयात किया गया था. देश के कुल वनस्पति तेल आयात में पामतेल का हिस्सा 60 प्रतिशत से अधिक रहता है. एसईए द्वारा जारी प्रारंभिक आंकड़ों के अनुसार, इस साल मार्च में आरबीडी पामोलीन का आयात 90 प्रतिशत घटकर 30,850 टन रह गया जबकि एक साल पहले की इसी अवधि में यह आयात तीन लाख 12 हजार 673 टन का हुआ था. आरबीडी (रिफाइंड, ब्लीच्ड, डियोडराइज्ड) पामोलिन का आयात आठ जनवरी से व्यापार की ‘‘प्रतिबंधित सूची’’ में डाल दिया गया, जिसके बाद से पामोलीन के आयात में भारी कमी आई है. पाम तेल को प्रतिबंधित श्रेणी में रखने का मतलब होता है कि एक आयातक को यह तेल मंगाने के लिये सरकार से लाइसेंस या अनुमति लेने की आवश्यकता होगी.

यह भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल पर मोदी सरकार ने कमाए 20 लाख करोड़ रुपये, जनता से साझा करे मुनाफा : कांग्रेस

एसईए ने आगे कहा कि कच्चे पाम तेल (सीपीओ) और कच्चे पाम कर्नेल गरी (सीपीकेओ) का आयात मार्च के दौरान 38 प्रतिशत घटकर तीन लाख 04 हजार 458 टन रह गया, जो एक साल पहले इसी माह में चार लाख 89 हजार 770 टन रह गया. आंकड़ों के मुताबिक मार्च में सोयाबीन तेल का आयात मामूली घटकर दो लाख 92 हजार 410 टन रह गया, जो पिछले साल इसी अवधि में दो लाख 92 हजार 925 टन था, जबकि सूरजमुखी तेल का आयात उक्त अवधि में दो लाख 97 हजार 887 टन से घटकर 2 लाख 96 हजार 501 टन रह गया. तेल वर्ष 2019-20 की नवंबर-मार्च अवधि के दौरान, खाद्य तेलों का कुल आयात 10 प्रतिशत घटकर 53 लाख 91 हजार 807 टन रहा, जो एक साल पहले की अवधि में 60 लाख 05 हजार 067 टन रहा था। तेल वर्ष नवंबर से अगले साल अक्टूबर महीने तक होता है.

यह भी पढ़ें: Coronavirus Lockdown: लॉकडाउन खत्म होने के बाद पुराने सोने की मांग बढ़ने का अनुमान

एसईए ने यह भी उल्लेख किया कि वह वर्तमान लॉकडाउन स्थिति में गैर-खाद्य तेलों के आयात के आंकड़ों को संकलित करने में असमर्थ है. यह अंतरिम प्रारंभिक आंकड़ा है और स्थिति पूरी तरह से सामान्य होने पर आयात के सभी आंकड़े जारी किये जायेंगे. भारत में मुख्य रूप से इंडोनेशिया और मलेशिया से पाम तेल का आयात होता है. वहीं, अर्जेंटीना से सोयाबीन तेल सहित कुछ हल्के कच्चे तेल की थोड़ी मात्रा का आयात करता है. सूरजमुखी तेल का यूक्रेन और रूस से आयात किया जाता है.

First Published : 06 Apr 2020, 04:38:53 PM

For all the Latest Business News, Commodity News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.