News Nation Logo
Banner

लॉकडाउन में किसानों को मोदी सरकार से मिली बड़ी राहत, फसलों की बुवाई और कटाई पर रोक नहीं

गृह मंत्रालय (Home Ministry) द्वारा लॉकडाउन को लेकर दिए गए पूर्व आदेश को जारी रखते हुए शुक्रवार को दिए गए आदेश के अनुसार, किसानों और खेतिहर मजदूरों को खेतों में काम करने की छूट होगी.

IANS | Updated on: 28 Mar 2020, 07:35:27 AM
farmer

किसान (Farmers) (Photo Credit: IANS)

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर से बचने के लिए संपूर्ण भारत में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन (Lockdown) है और इस दौरान लोगों के घरों से निकलने की इजाजत नहीं है, लेकिन किसानों (Farmers) के लिए राहत की बात है कि फसलों (Crops) की बुवाई व कटाई पर इस दौरान कोई रोक नहीं होगी. गृह मंत्रालय (Home Ministry) द्वारा लॉकडाउन को लेकर दिए गए पूर्व आदेश को जारी रखते हुए शुक्रवार को दिए गए आदेश के अनुसार, किसानों और खेतिहर मजदूरों को खेतों में काम करने की छूट होगी.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से लड़ाई के लिए भारत के मुकाबले इन देशों ने तो अपना पूरा खजाना ही खोल दिया

उर्वरक, कीटनाशक, बीज कंपनियों का काम जारी रहेगा

कृषि यंत्रों से संबद्ध कस्टम हायरिंग सेंटर खुले रहेंगे. यहीं नहीं, फसलों की कटाई व बुवाई के लिए कृषि यंत्रों को एक प्रदेश से दूसरे प्रदेश व किसी प्रदेश के भीतर ही ले जाने की छूट होगी. उर्वरक, कीटनाशक और बीज तैयार करने वाली कंपनियों व पैकेजिंग इकाइयों का काम जारी रहेगा. सबसे महत्वपूर्ण यह कि न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी (MSP) पर खरीद समेत कृषि उत्पादों की खरीद में शामिल एजेंसियों का काम जारी रहेगा. एग्री प्रोड्यूस मार्केट कमेटी (APMC) व राज्य सरकारों द्वारा संचालित मंडियां (Mandi) खुली रहेंगी.

बता दें कि भारत में कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण के 694 मामलों की पुष्टि हो चुकी है, जिनमें से 16 लोगों की मौत हो चुकी है. केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट पर गुरुवार की शाम उपलब्ध जानकारी के अनुसार, देश में कोरोनावायरस (Corona Virus) के अब तक 694 मामले की पुष्टि हुई है,जिनमें 647 भारतीय जबकि 47 विदेशी शामिल हैं. देश में कोरोनावायरस से पीड़ित 45 मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि 16 लोगों की मौत हो गई है. 

First Published : 28 Mar 2020, 07:23:25 AM

For all the Latest Business News, Commodity News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×