News Nation Logo

Budget 2021: चिकित्सा उपकरणों के कच्चे माल के आयात पर शुल्क कम हो: फिक्की

Budget 2021: फिक्की ने कहा है कि देश में वर्तमान में गुणवत्ता वाले चिकित्सा उपकरणों के उपलब्ध नहीं होने के चलते इन पर बहुत ज्यादा शुल्क नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे स्वास्थ्य सेवा पर असर पड़ेगा और अर्थव्यवस्था पर भी बोझ बढ़ेगा.

IANS | Updated on: 31 Jan 2021, 04:52:45 PM
FICCI

FICCI (Photo Credit: IANS )

नई दिल्ली :

Budget 2021: व्यापार जगत की संस्था फिक्की ने स्वदेशी विनिर्माण को प्रोत्साहित करने के लिए चिकित्सा उपकरणों के कच्चे माल के आयात पर शुल्क में कटौती करने की सिफारिश की है। फिक्की ने उन चिकित्सा उपकरणों के आयात शुल्क में भी कटौती की मांग की है जिनका देश में उत्पादन नहीं होता है. एक बयान में, उद्योग निकाय ने कहा है कि देश में वर्तमान में गुणवत्ता वाले चिकित्सा उपकरणों के उपलब्ध नहीं होने के चलते इन पर बहुत ज्यादा शुल्क नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे स्वास्थ्य सेवा पर असर पड़ेगा और अर्थव्यवस्था पर भी बोझ बढ़ेगा.

यह भी पढ़ें: बंदी के कगार पर पावरलूम इंडस्ट्री, आगामी बजट से क्या हैं उम्मीदें, पढ़ें यहां

फिक्की ने यह भी कहा कि चिकित्सा उपकरणों के बड़े पैमाने पर अपरिहार्य आयात पर स्वास्थ्य उपकर उन रोगियों के स्वास्थ्य संबंधी लागत को बढ़ाता है जो अपने पॉकेट से खर्च करते हैं. फिक्की ने भारत में चिकित्सा उपकरणों और इसके पुजरें के विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए मूल सीमा शुल्क को घटाकर जीरो प्रतिशत करने की सिफारिश की है. इसने कहा, अर्थव्यवस्था के लिए विकास के इंजन होने के नाते, यह महत्वपूर्ण है कि इसे अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धी बनाने के प्रयास किए जाएं. 

यह भी पढ़ें: 2020 के बजट की महत्वपूर्ण घोषणाएं यहां पढ़ें, जानिए इस बार किस पर रह सकता है फोकस

यदि हम हाल के दिनों में भारत के निर्यात प्रदर्शन पर नजर डालें, तो लगातार गिरावट आई है और इसका असर भी व्यापार संतुलन पर पड़ रहा है. फिक्की के बयान में कहा गया है कि निर्यात मुनाफे के लिए प्रत्यक्ष कर छूट प्रतिस्पर्धी क्षेत्रों को निर्यात करने के लिए निवेश को आकर्षित करेगी और इस क्षेत्र को प्रोत्साहन प्रदान करेगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 31 Jan 2021, 04:51:40 PM

For all the Latest Business News, Budget News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.