News Nation Logo

मुद्रास्फीति को स्थिर रखने के लिए, रेपो दर में वृद्धि: RBI

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 21 Dec 2022, 09:01:23 PM
RBI

(source : IANS) (Photo Credit: Twitter )

नई दिल्ली:  

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने 7 दिसंबर को रेपो दर में 35 आधार अंकों की बढ़ोतरी की थी, जिससे यह दर 6.25 प्रतिशत हो गई. निर्णय लेते समय, केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने नोट किया था कि आगे बढ़ने वाली मुद्रास्फीति की गति वैश्विक और घरेलू दोनों कारकों द्वारा निर्धारित की जाएगी. बुधवार को जारी एमपीसी के मिनट्स के अनुसार, इसने 5 से 7 दिसंबर के बीच हुई अपनी बैठक के दौरान नोट किया कि खाद्य के मामले में, जबकि सब्जियों की कीमतों में मौसमी सर्दियों में सुधार देखने की संभावना है, अनाज और मसालों की कीमतें निकट अवधि में आपूर्ति संबंधी चिंताओं के कारण बढ़ सकती हैं.

उच्च फीड लागत भी दूध के संबंध में मुद्रास्फीति को बढ़ा सकती है.

समिति ने कहा, प्रतिकूल जलवायु घटनाएं - घरेलू और वैश्विक दोनों- खाद्य कीमतों के लिए तेजी से जोखिम का एक महत्वपूर्ण स्रोत बनती जा रही हैं. वैश्विक मांग कमजोर हो रही है. भू-राजनीतिक तनावों को कम करने से खाद्य और ऊर्जा की कीमतों के ²ष्टिकोण में अनिश्चितता जारी है. एमपीसी ने बैठक में कहा कि औद्योगिक इनपुट कीमतों में सुधार और आपूर्ति श्रृंखला दबाव, यदि बना रहता है, तो उत्पादन कीमतों पर दबाव कम करने में मदद मिल सकती है. लेकिन इनपुट लागत का लंबित पास-थ्रू मूल मुद्रास्फीति को स्थिर रख सकता है.

उन्होंने कहा कि अमेरिकी डॉलर के उतार-चढ़ाव से आयातित मुद्रास्फीति के जोखिमों पर बारीकी से नजर रखने की जरूरत है. रबी की अच्छी फसल की संभावनाओं के साथ, कृषि ²ष्टिकोण उज्‍जवल हुआ है. संपर्क-गहन क्षेत्रों में निरंतर उछाल शहरी खपत का समर्थन कर रहा है. मजबूत और व्यापक आधार वाली ऋण वृद्धि और पूंजीगत व्यय और बुनियादी ढांचे पर सरकार के जोर से निवेश गतिविधि को बढ़ावा मिलना चाहिए. आरबीआई के सर्वे के मुताबिक कंज्यूमर कॉन्फिडेंस में सुधार हो रहा है. हालांकि, अर्थव्यवस्था को दीर्घकालिक भू-राजनीतिक तनावों, वैश्विक वित्तीय स्थितियों को कड़ा करने और बाहरी मांग को धीमा करने से विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है.

एमपीसी ने कहा कि इन सभी कारकों को ध्यान में रखते हुए, 2022-23 के लिए वास्तविक जीडीपी वृद्धि 6.8 प्रतिशत, तीसरी तिमाही में 4.4 प्रतिशत और चौथी तिमाही में 4.2 प्रतिशत अनुमानित है, जोखिम समान रूप से संतुलित है. मुद्रास्फीति ने जनवरी 2022 से शासन किया है और मुख्य मुद्रास्फीति लगभग 6 प्रतिशत बनी हुई है.

पैनल ने कहा- 2022-23 की तीसरी और चौथी तिमाही में हेडलाइन मुद्रास्फीति के ऊपर या ऊपरी सीमा के करीब रहने की उम्मीद है. 2023-24 की पहली छमाही में इसके कम होने की संभावना है लेकिन फिर भी यह लक्ष्य से काफी ऊपर रहेगा. इस बीच, आर्थिक गतिविधि अच्छी तरह से आयोजित हुई है और घरेलू मांग से समर्थित होने की उम्मीद है. बाहरी मांग की बदलती परिस्थितियों के कारण निवल निर्यात कमजोर रहेगा. इसके अलावा, किए गए मौद्रिक नीति उपायों के प्रभाव को देखने की जरूरत है.

एमपीसी ने नीतिगत रेपो दर को 35 आधार अंकों से बढ़ाकर 6.25 प्रतिशत करने का निर्णय लिया. एमपीसी ने यह सुनिश्चित करने के लिए समायोजन की वापसी पर ध्यान केंद्रित करने का भी निर्णय लिया कि विकास का समर्थन करते हुए मुद्रास्फीति लक्ष्य के भीतर बनी रहे.

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 21 Dec 2022, 09:01:23 PM

For all the Latest Business News, Banking News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.