News Nation Logo
Banner

आरबीआई के डिप्टी गवर्नर की दौड़ में चेतन घाटे और माइकल पात्रा सबसे आगे

विनियामक नियुक्ति खोज समिति (एफएसआरएएससी) ने इस सिलसिले में 10 उम्मीदवारों का साक्षात्कार लिया है, जिनमें पात्रा और घाटे के अलावा तीन अन्य अर्थशास्त्री और दो आईएएस अधिकारी भी शामिल हैं.

By : Nihar Saxena | Updated on: 10 Nov 2019, 07:14:16 AM
सांकेतिक चित्र

सांकेतिक चित्र (Photo Credit: (फाइल फोटो))

highlights

  • डिप्टी गर्वनर का पद विरल आचार्य के इस्तीफे के बाद से खाली है.
  • केंद्रीय बैंक के माइकल पात्रा और एमपीसी सदस्य चेतन घाटे रेस में आगे.
  • डिप्टी गवर्नर पद के लिए सात नवंबर को हुए थे साक्षात्कार.

नई दिल्ली:

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के डिप्टी गवर्नर की नियुक्ति की दौड़ में केंद्रीय बैंक के कार्यकारी निदेशक माइकल पात्रा और एमपीसी (मौद्रिक नीति समिति) में बाहरी सदस्य चेतन घाटे शामिल हैं. माना जाता है कि वित्तीय क्षेत्र विनियामक नियुक्ति खोज समिति (एफएसआरएएससी) ने इस सिलसिले में 10 उम्मीदवारों का साक्षात्कार लिया है, जिनमें पात्रा और घाटे के अलावा तीन अन्य अर्थशास्त्री और दो आईएएस अधिकारी भी शामिल हैं. चेतन घाटे आरबीआई की एमपीसी के बाहरी सदस्य हैं, जबकि माइकल देवव्रत पात्रा इस समय आरबीआई में कार्यकारी निदेशक हैं.

यह भी पढ़ेंः मुहूर्त देखकर 2020 से शुरू होगा भव्य राम मंदिर का निर्माण, लग सकते हैं 5 साल

छत्रपति शिवाजी भी रेस में
भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी छत्रपति शिवाजी के बारे में भी बताया जाता है कि उनका नाम आरबीआई के डिप्टी गवर्नर के उम्मीदवारों की सूची में शामिल है. वह भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) के सीईओर और वित्त मंत्रालय में प्रधान सचिव रहे हैं और वर्तमान में एशियाई विकास बैंक (एडीबी) में भारत के कार्यकारी निदेशक हैं.

यह भी पढ़ेंः Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद पीएम मोदी ने देश को दिया संदेश, जानें 10 प्वाइंट में

नवंबर में हुआ है साक्षात्कार
वॉशिंगटन स्थित भारतीय दूतावास की आर्थिक शाखा में वर्तमान में पदस्थापित नौकरशाह अरुणीश चावला और मध्यप्रदेश के प्रधान वित्त सचिव मनोज गोविल का भी शायद इस पद के लिए साक्षात्कार हुआ है. आरबीआई के डिप्टी गवर्नर पद के लिए सात नवंबर को हुए साक्षात्कार के संबंध में हालांकि कोई आधिकारिक सूचना नहीं दी गई है.

यह भी पढ़ेंः महाराष्ट्र: राज्यपाल ने बीजेपी को सरकार बनाने का दिया न्योता, 11 तक साबित करना है बहुमत

विरल आचार्य के इस्तीफे के बाद से खाली है पद
परंपरागत रूप से इस पद पर केंद्रीय बैंक के बाहर के अर्थशास्त्रियों का चयन होता रहा है डिप्टी गर्वनर का यह पद विरल आचार्य के इस्तीफा देने के बाद से खाली पड़ा हुआ है. आचार्य से पहले उर्जित पटेल इस पद पर थे जो बाद में आरबीआई के गर्वनर बने केंद्रीय बैंक में आचार्य का अंतिम कार्यदिवस 23 जुलाई था.

First Published : 10 Nov 2019, 07:14:16 AM

For all the Latest Business News, Banking News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×