News Nation Logo
Banner

Coronavirus Lockdown: एक्सिस बैंक (Axis Bank) ने कस्टमर्स को दिया 3 महीने EMI टालने का विकल्प

Coronavirus Lockdown: एक्सिस बैंक (Axis Bank) ने ट्वीट किया, 'कोविड-19 नियामक पैकेज पर भारतीय रिजर्व बैंक के दिशानिर्देशों के मद्देनजर हम आपको ऋण स्थगन का विकल्प दे रहे हैं.

PTI | Updated on: 02 Apr 2020, 01:51:53 PM
Axis Bank

एक्सिस बैंक (Axis Bank) (Photo Credit: फाइल फोटो)

दिल्ली:

Coronavirus Lockdown: निजी क्षेत्र (Private Bank) के एक्सिस बैंक (Axis Bank) ने अपने ग्राहकों को कर्ज की किस्तें चुकाने में कठिनाई होने की दशा में तीन महीनों के लिए ऋण स्थगन का विकल्प दिया हैं, यानी इस दौरान उनके बैंक खातों से ईएमआई (EMI) नहीं ली जाएगी. कई अन्य बैंक भी ग्राहकों से इस तरह की पेशकश कर चुके हैं. एक्सिस बैंक ने ट्वीट किया, 'कोविड-19 नियामक पैकेज पर भारतीय रिजर्व बैंक के दिशानिर्देशों के मद्देनजर हम आपको ऋण स्थगन का विकल्प दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें: हेल्थ इंश्योरेंस और थर्ड पार्टी मोटर इंश्योरेंस को लेकर मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला

क्रेडिट कार्ज की किस्त को टाल सकते हैं ग्राहक

बैंक ने कहा है कि ग्राहक एक मार्च 2020 से 31 मई 2020 के बीच विभिन्न सावधि ऋणों, क्रेडिट कार्ड (Credit Card) के बकाया किस्तों और ब्याज के भुगतान को टाल सकते हैं. इसी तरह की पेशकश निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank), आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) और कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank) भी कर चुके हैं. एक्सिस बैंक ने अपनी वेबसाइट पर ऋण स्थगन के नियम और शर्तों के बारे में विस्तार से कहा कि यदि आपकी तत्काल आमदनी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है या आप कोविड-19 महामारी से उत्पन्न वित्तीय बाधाओं का सामना कर रहे हैं तो ऋण स्थगन के विकल्प का लाभ उठाया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: 7th CPC: सरकारी कर्मचारियों को प्रमोशन के लिए और करना होगा इंतजार, मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला

इसके साथ ही बैंक ने अपने ग्राहकों को स्पष्ट किया कि यह केवल एक ऋण स्थगन का विकल्प है और कोई रियायत या छूट नहीं है, क्योंकि इस अवधि के लिए ब्याज (Interest) देना पड़ेगा. बैंक ने कहा कि ऋण स्थगन की अवधि खत्म होने के बाद जून 2020 से पुनर्भुगतान फिर से शुरू हो जाएगा. बैंक ने कहा है कि जिन ग्राहकों कई आमदनी पर प्रभावित नहीं हुई है या जो किस्त चुका सकते हैं और ऋण स्थगन की सुविधा नहीं चाहते हैं वे एक ईमेल भेजकर या बैंक की किसी भी शाखा में जाकर इस बारे में बता सकते हैं. साथ ही बैंक कहा है कि यदि किसी ग्राहक की तरफ से कोई लिखित सूचना नहीं मिलती है तो माना जाएगा कि उसने ऋण स्थगन का विकल्प चुना है.

First Published : 02 Apr 2020, 01:51:53 PM

For all the Latest Business News, Banking News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो