News Nation Logo
Banner

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने गरीब खाताधारकों को लेकर उठाया ये बड़ा कदम

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने खातों में न्यूनतम राशि न होने पर जुर्माने के तौर पर वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान 278.66 करोड़ रुपये वसूले हैं. यह राशि देशभर के लगभग एक करोड़ 27 लाख ग्राहकों से वसूली गई है.

IANS | Updated on: 08 Aug 2019, 10:49:20 AM
पंजाब नेशनल बैंक (PNB) - फाइल फोटो

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) - फाइल फोटो

Bhopal:

बैंक अकाउंट में न्यूनतम राशि जमा न होना भी बैंकों की आय और मुनाफे का एक जरिया बन गया है. पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने खातों में न्यूनतम राशि न होने पर जुर्माने के तौर पर वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान 278.66 करोड़ रुपये वसूले हैं. यह राशि देशभर के लगभग एक करोड़ 27 लाख ग्राहकों से वसूली गई है.

यह भी पढ़ें: करते हैं ऑनलाइन ट्रांजैक्शन, RBI लाया आपके लिए बड़ी खुशखबरी

यह खुलासा आरटीआई के जरिए प्राप्त जानकारी से हुआ है. मध्य प्रदेश के नीमच जिले के एक आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने पंजाब नेशनल बैंक से एक आरटीआई आवेदन के जरिए यह जानकारी मांगी थी कि बीते दो वित्त वर्षो में बचत और चालू खातों में न्यूनतम राशि न होने पर कितने खातेदारों से कितनी राशि वसूली गई है.

यह भी पढ़ें: सोने में भयंकर तेजी, मौजूदा भाव पर क्या बनाएं रणनीति, दिग्गजों से समझें यहां

32 फीसदी अधिक वसूली गया जुर्माना
PNB की ओर से उपलब्ध कराए गए ब्यौरे के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने बैंक खातों में न्यूनतम राशि न होने पर जुर्माने के तौर पर खाताधारकों से 278.66 करोड़ रुपये वसूले हैं यह राशि विगत वित्त वर्ष की तुलना में वसूली गई राशि से 32 फीसदी अधिक है. ब्यौरे के अनुसार, पीएनबी ने वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान 1,22,53,756 बचत खातों से कुल 226.36 करोड़ रुपये और 5,37,692 चालू खातों से कुल 52.30 करोड़ रुपये जुर्माने के रूप में वसूले हैं. यह राशि इन खातों में न्यूनतम राशि न होने के कारण वसूली गई। इस तरह पीएनबी ने वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान दोनों प्रकार के करीब 1.27 करोड़ खाता धारकों (बचत एवं चालू) से कुल 278.66 करोड़ रुपये जुर्माने के तौर पर वसूले हैं.

यह भी पढ़ें: ​​​​​Petrol Price: 1 दिन के ब्रेक के बाद फिर घटे पेट्रोल के रेट, जानें नए भाव

वहीं पंजाब नेशनल बैंक ने वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान 1,22,98,748 बचत खातों से कुल 151.66 करोड़ रुपये एवं 5,94,048 चालू खातों से कुल 59.08 करोड़ रुपये खातों में न्यूनतम राशि न होने पर खाताधारकों से जुर्माने के रूप में वसूले हैं. इस तरह वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान बैंक ने दोनों प्रकार के (बचत एवं चालू) लगभग 1.28 करोड़ खाताधारकों से कुल 210.74 करोड़ रूपये की राशि खातों में न्यूनतम शेष नहीं बनाएं रखने पर जुर्माने के तौर पर वसूले.

यह भी पढ़ें: RBI Credit Policy: RBI के इस कदम से इतनी सस्ती हो जाएगी होमलोन की EMI

चंद्रशेखर गौड़ के मुताबिक बैंक द्वारा ग्राहक के खातों में न्यूनतम शेष राशि नहीं रखने पर वसूले जाने वाला जुर्माना वस्तुत: उसकी गरीबी पर जुर्माना है. व्यापक जनहित में इसकी तुरंत समीक्षा होनी चाहिए, और ऐसे सभी पेनल्टी प्रभारों की वसूली पर तत्काल प्रभाव से रोक लगनी चाहिए.

First Published : 08 Aug 2019, 10:49:20 AM

For all the Latest Business News, Banking News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.