News Nation Logo
Banner

कंगाल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्र को दिए संदेश में दी ये कड़ी चेतावनी

प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश की मौजूदा खराब हालात के लिए पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (PPP) और पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (PML-N) को जिम्मेदार ठहराया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 12 Jun 2019, 03:44:27 PM
प्रधानमंत्री इमरान खान (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री इमरान खान (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कंगाल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्र के नाम संबोधन में चेतावनी के लहजे में कहा है कि देश को कर्ज में डुबोने वाले चोरों को किसी भी हालात में छोड़ा नहीं जाएगा. गौरतलब है कि इमरान खान की सरकार ने आम बजट पेश किया है. वहीं इमरान खान देश की मौजूदा स्थितियों को देखते हुए देशवासियों को विश्वास में लेने की कोशिश भी कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: मुकेश अंबानी की कंपनी Reliance Jio का नया ऑफर, मिलेंगे Ajio के कूपन

मौजूदा हालात के लिए PPP, PML-N को जिम्मेदार ठहराया
इमरान खान ने देश की मौजूदा खराब हालात के लिए पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (PPP) और पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (PML-N) को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा है कि देश को बर्बादी के कगार पर पहुंचाने वाले लोगों को सजा दिलाया जाएगा. उन्होंने एक जांच आयोग का गठन करने का भी ऐलान किया है. यह जांच आयोग पिछले 10 साल में पाकिस्तान के ऊपर 24 हजार अरब का कर्ज कैसे हो गया इसकी जांच करेगा. इस जांच आयोग में देश की सभी बड़ी जांच एजेंसियों को शामिल किया जाएगा.

यह भी पढ़ें: करोड़पति (Crorepati) बनने के लिए इन योजनाओं में लगाएं पैसा, जानकारी के लिए पढ़ें पूरी खबर

30 जून तक बेनामी संपत्तियों का खुलासा करने की चेतावनी
इमरान खान ने कहा है कि जब से वो सत्ता में आए हैं तभी से पूछ रहे हैं कि नया पाकिस्तान कहां हैं. इस पर उन्होंने कहा कि एक कल्याणकारी राज्य बनने में समय लगता है. इमरान ने देशवासियों से एमनेस्टी स्कीम का फायदा उठाने की अपील की है.

यह भी पढ़ें: अनिल अंबानी (Anil Ambani) ने 35,000 करोड़ रुपये कर्ज चुकाने का किया दावा

उन्होंने चेतावनी दी है पाकिस्तानी नागरिक 30 जून तक बेनामी संपत्तियों और खातों का खुलासा कर दें, नहीं तो उसे जब्त कर लिया जाएगा. गौरतलब है कि पाकिस्तान ने IMF से 6 अरब डॉलर का कर्ज ले रखा है. कर्ज की शर्तों के तहत पाकिस्तान को कर राजस्व बढ़ाने समेत कई शर्तों को मानना पड़ा है.

First Published : 12 Jun 2019, 03:44:27 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×