News Nation Logo

महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनावः 8 करोड़ 98 लाख से अधिक मतदाताओं के हाथ 3237 उम्मीदवारों की किस्‍मत

महाराष्ट्र विधानसभा की 288 सीटों के लिए 21 अक्टूबर वोटिंग होगी. सोमवार को 8 करोड़ 98 लाख से अधिक मतदाता 3237 उम्मीदवारों के भाग्‍य का फैसला करेंगे.

By : Drigraj Madheshia | Updated on: 20 Oct 2019, 03:12:55 PM
महारष्‍ट्र का रण

महारष्‍ट्र का रण (Photo Credit: न्‍यूज स्‍टेट)

नई दिल्‍ली:

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Election 2019) में 288 सीटों के लिए 21 अक्टूबर वोटिंग होगी. सोमवार को 8 करोड़ 98 लाख से अधिक मतदाता 3237 उम्मीदवारों के भाग्‍य का फैसला करेंगे. इनमें करीब 1400 निर्दलीय उम्मीदवार है. चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को आएंगे. महाराष्‍ट्र में सबसे ज्‍यादा सीटों पर बहुजन समाज पार्टी यानी बीएसपी के उम्‍मीदवार ताल ठोंक रहे हैं. बीएसपी 262 और बीजेपी 150 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. कांग्रेस 147, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना 101 और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) 121 सीटों पर लड़ रही है. वहीं शिवसेना ने 124 सीटों पर अपने उम्‍मीदवार उतारी है. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी 16, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पाटी 8 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. 3237 उम्मीदवारों में से 3001 पुरुष और 235 महिला उम्मीदवार मैदान में हैं. महाराष्‍ट्र में एक करोड़ छह लाख 76 हजार 13 ऐसे हैं जो 18 से 25 साल आयुवर्ग के बीच हैं.

बीजेपी-शिवसेना Vs कांग्रेस-एनसीपी

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Election 2019) में बीजेपी और शिवसेना गठबंधन का मुकाबला कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन से है. 2014 लोकसभा चुनाव की बात करें तो दोनों भगवा दल अलग होकर चुनाव मैदान में उतरे थे. बीजेपी को 122 और शिवसेना को 63 सीटें मिली थीं. इसके बाद दोनों ने मिलकर सरकार बनाई थी. 2014 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 27 एनसीपी को 29 सीटें मिली थीं.

यह भी पढ़ेंः महाराष्ट्र विधानसभा चुनावः किसके पास सत्‍ता की चाबी, विदर्भ, पश्‍चिम महाराष्‍ट्र या मराठवाड़ा?

5 परिवारों के इर्द-गिर्द घूमती है महाराष्‍ट्र की राजनीति

महाराष्‍ट्र की राजनीति में 5 परिवारों का अबतक दबदा रहा है. 38 की उम्र में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनने वाले शरद पवार का परिवार हो या बिना विधायक, सासंद बने करीब चार दशकों से महाराष्ट्र की सियासत की धुरी बनकर उभरे ठाकरे परिवार. या फिर बाला साहब ठाकरे की उंगली पकड़ कर अपराध से राजनीति में उतरने वाला नारायाण राणे परिवार. इन तीनों के अलावा देशमुख परिवार भी है जहां अब सियासत की विरासत संभालने और बचाने के लिए चुनाव मैदान में है. एक और परिवार है गोपीनाथ मुंडे का.

यह भी पढ़ेंः Diwali 2019: दिवाली के दिन इन बातों का रखें ध्यान, बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा

बीजेपी के 96 फ़ीसदी उम्मीदवार करोड़पति

इस चुनाव में बीजेपी, शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी जैसी प्रमुख पार्टियों के ज़्यादातर उम्मीदवार करोड़पति हैं. 47 फ़ीसदी (1007) उम्मीदवार ऐसे हैं जिन्होंने अपनी संपत्ति कम से कम 1 करोड़ घोषित की है. 2014 के चुनाव में ये संख्या 32 फ़ीसदी ही थी. बीजेपी के 96 फ़ीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं जबकि कांग्रेस के 126 यानि 86 फ़ीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं. शिवसेना के 94 और एनसीपी के 87 फ़ीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं.

बीजेपी के उम्‍मीदवार पराग शाह सबसे अमीर उम्मीदवार

मुंबई उपनगर ज़िले की घाटकोपर सीट से बीजेपी के उम्‍मीदवार पराग शाह सबसे अमीर उम्मीदवार हैं. उनकी कुल संपत्ति 500 करोड़ रुपए से ज़्यादा है. इसमें 400 करोड़ से ज़्यादा चल जबकि करीब 79 करोड़ की अचल संपत्ति घोषित की है.

दागियों की भरमार

एडीआर के मुताबिक़ बीजेपी के कुल 162 में से 96 उम्मीदवार (59 %) ऐसे हैं जिनके ख़िलाफ़ आपराधिक मामलों में केस दर्ज़ हैं. इनमें से 59 उम्मीदवार (36%) तो ऐसे हैं जिनके ख़िलाफ़ हत्या, हत्या के प्रयास जैसे गंभीर आपराधिक मामलों में केस दर्ज़ हैं. वहीं कांग्रेसके कुल 83 उम्मीदवार (57%) आपराधिक मामलों दर्ज हैं. इनमें से 44 उम्मीदवारों (30%) पर गंभीर आपराधिक मामलों में केस दर्ज़ हैं. वहीं शिवसेना के 48 फ़ीसदी व एनसीपी के 35 फ़ीसदी उम्मीदवारों पर गंभीर मामलों में आपराधिक मामले दर्ज़ हैं. एडीआर ने चुनाव मैदान में मौजूद 3237 उम्मीदवारों में से 3112 उम्मीदवारों की तरफ़ से दायर हलफ़नामे का अध्ययन किया है.

For all the Latest Elections News, Assembly Elections News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 20 Oct 2019, 03:12:55 PM